विश्व हाथ स्वच्छता दिवस के अवसर पर शक्तिशाली महिला संगठन ने बच्चों को हाथ धुलाई के सही तरीके बताये - samay khabar

ताजा खबरों के लिए FB पेज को Like करे

विश्व हाथ स्वच्छता दिवस के अवसर पर शक्तिशाली महिला संगठन ने बच्चों को हाथ धुलाई के सही तरीके बताये

Share This

कोरोना संकट में हाथों की सफाई ज्यादा महत्वपूर्ण और जरुरी हैं हाथ धोते समय न करें 4 गलतिया:- रवि गोयल

शिवपुरी। स्वयं सेवी संस्था शक्तिशाली महिला संगठन शिवपुरी के द्वारा विश्व हाथ स्वच्छता दिवस 2020 जो कि पूरे विश्व में 5 मई को मनाया जाता है के अवसर पर शिवपुरी तहसील के बूढ़ीबरोद, गढ़ीबरोद, कर्राई ,अर्जुनगवा, मोहनगढ गांव  में सोसल डिस्टेसिंग का पालन करते हुय कोरोना महामारी की लड़ाई में हाथों को कैसे अच्छे से साबुन से धोकर हम इस कोरोना सकं्रमण से बच सकते है इसके बारे में चार सौ से अधिक बच्चों एवं किशोरी बालिकाओं को जागरुक किया। अधिक जानकारी देते हुये कार्यक्रम संयोजक रवि गोयल ने बताया कि हर साल 5 मई को विश्व हाथ स्वच्छता दिवस मनाया जाता हैं । इस दिवस को मनाने का उद्देश्य हाथ नही धोने से होने वाली स्वास्थ्य जटिलताओं के प्रति लोगों में जागरुकता फैलाना हैं जिसमें संक्रमण भी शामिल इस साल विश्व हाथ स्वच्छता दिवस 2020 की थीम सेव लाइब्स क्लीन योर हैंड्स है। 
विश्व हाथ स्वच्छता  दिवस अभियान का मुख्य उददेश्य यह पहचानना है कि हाथ धुलाई करना सबसे प्रभावी कार्यो मे से एक है । यह रोगों के प्रसार को कम करने में मदद कर सकता है इस साल कोरोना वायरस का प्रकोप फैला हुआ है और इससे बचने के लिए हाथो को धोना सबसे प्रभावी उपाय है। हाथों की सफाई के जरिये इस खतरनाक वायरस से बचा जा सकता है।
स्वास्थ्य कार्यकर्ता और अन्य लोग समान रुप से बार-बार हैंडवाॅशिंग प्रेक्टिस से संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार लोगों को हाथ की स्वच्छता को वैश्विक प्राथमिकता बनाने पर जोर देना चाहिये। इसके अलाबा संक्रमण की रोकथाम के लिए अपने आस पास के दूसरे लोगों को भी जागरुक करें। 
रवि गोयल ने बताया कि कोरोना वायरस का स्थायी ईलाज नही  हैं और न ही अभी तक कोई दवा या टीका बना है। इससे सिर्फ सुरक्षा ही बचाव है। यह वायरस प्रभावित व्यक्ति से खांसने या छीकने पर नाक और मुंह से निकलने वाली बूंदों से फैलता है। इसे फैलने से रोकने का सबसे बढ़िया तरीका यह है कि आप घर पर रहे ताकि प्रभावित लोगों के संपर्क में आने से बचा जा सके। इसके सुरक्षा के उपायों में हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोना भी शामिल है । कई लोेग उचित तरीके से हाथ धोने का तरीका नही जानते है। कई लोग बहुत कम समय तक हाथ धोते है जो कि सही तरीका नही है। 
सेन्टर फाॅर डिजीज कंट्रोल एण्ड प्रिवेंशन के अनुसार हाथ धोने का उचित तरीका यह है कि कम से कम 20  सैकण्ड तक के लिए साबुन और पानी से हाथ धोने चाहिए। जर्नल और एनवायर्नमेन्टल हेल्थ में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार सिर्फ 5 प्रतिशत लोग  शौच करने के बाद अपने हाथों को  15 सेकंड तक धोते है। महिलस बाल विकास विभाग की परियोजना अधिकारी श्रीमती मंजुलता दुबे ने किशोारी बालिाकओं को हाथ धुलाई का प्रदर्शन कराते हुये बताया  कि हाथ धोने के लिए आप सवसे पहले साबुन लगाकर सर्कुलेशन मोशन में अपनी हथेलियों को एक साथ रगड़ें इसके बाद अपने हाथों के पीछे भी रगड़े फिर अपनी उंगलियों के अन्दर और अपने नाखूनों के नीचे भी रगड़े इसके बाद उंगलियो को बीच में फंसाकर रगड़े इसमें सवसे महत्वपूर्ण बात यह याद रखें कि साबुन लगाने से पहले हाथों को पानी से गीला करलें  इसमे साबुन और पानी एक साथ इस्तेमाल न करें , इससे साबुन सही तरीके से नही लगता है। संस्था के आपदा प्रबंधन के प्रमोद गोयल ने बताया कि सामान्यतः लोग सिर्फ 6 सैकण्ड ही अपने हाथों को धोते है इसके लिए आप दो बार हैप्पी बर्थडे सोंग गा सकते हैं क्योकि इस गीत को 20 सैकण्ड में दो बार गाया जा सकता है तथा कोरोना से बचने के लिए 20 सेकण्ड की सिफारिश की गई है। संस्था की टीम द्वारा बच्चों को हाथ धुलाई का सही प्रेक्टिस करायी गई और उम्मीद की गई की वह इस सही तरीके से अपने हाथों को धोया करेंगें और कोरोना महामारी से बच सकेगें । संस्था की पूरी टीम ने विश्व हाथ स्वच्छता दिवस की बधाई दी एवं बच्चों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए हाथ धुलाई के सही तरीके बताने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।

No comments:

Post a Comment

Pages