ग्राम बड़ौरा में होगा ॐ सत्य शिव महायज्ञ एवं शिव मानस ज्ञान गंगा का भव्य आयोजन


करैरा/बड़ौरा
करैरा के 12 किलोमीटर दक्षिण दिशा में स्थित ग्राम बड़ौरा में ताबल के पास स्थित श्री शिव मंदिर एवं श्री गौड़ बाबा मंदिर पर  ॐ सत्य शिव महायज्ञ एवं शिव मानस ज्ञान गंगा का भव्य आयोजन दिनांक 23-11-17 से प्रारम्भ होने जा रहा है

, उपरोक्त कार्यक्रम महंत श्री कर्दम्ब ऋषि काशीक्षेत्र जी (यज्ञाचार्य एवं कथावाचक) के सानिध्य में सम्पन्न होगा। तालाब पर स्थित श्री शिव मंदिर में भगवान शिव के दो शिवलिंग के एक साथ दर्शन होते है तथा श्री गौड़ बाबा के दर्शन मात्र से सर्प आदि के विष से मुक्ति मिलती है जहाँ पर सर्प आदि से कटे हुए लोग वेहोश आते है और श्री गौड़ बाबा की कृपा से हसते हुए जाते है। ग्राम बड़ौरा में महायज्ञ का आयोजन प्रथम बार होने से वहाँ पर आने बाले भक्त एवं समस्त ग्रामवासी आयोजन को सफल बनाने हेतु बढ़-चढ़ भाग ले रहे है। यज्ञाचार्य महाराज श्री कर्दम्ब ऋषि जी का आगमन करीब 30-35 दिन पूर्व ही ग्राम बड़ौरा में हुआ था और इतने कम समय में ग्राम वासियो की मदद से महायज्ञ का आयोजन करना एक चर्चा का विषय बना हुआ है, यज्ञाचार्य महाराज श्री का कहना है कि उन्हें सपने के भगवान भोलेनाथ के एक जगह पर विराजित दो शिवलिंग के दर्शन हुए थे, दर्शनों की अभिलाषा लेकर महाराज जी भृमण करते हुए ग्राम बड़ौरा में आये और उन्होंने कम समय मे महायज्ञ के आयोजन का ध्वजा रोहण दिनाक 26 अक्टूबर को ग्राम वासियो द्वारा कर दिया था तथा महाराज जी की प्रेरणा से भक्तो द्वारा दिन रात मेहनत की जा रही है। जो भी इस महायज्ञ में शामिल होना चाहता है वह महाराज श्री के मोबाइल नंबर 9695263987 पर सम्पर्क कर सकते है। समस्त ग्राम वासियो एवं भक्तो का अनुरोध है कि *ॐ सत्य शिव महायज्ञ एवं शिव मानस ज्ञान गंगा* के भव्य आयोजन को सफल बनाने हेतु अधिक से अधिक संख्या में पधार कर पूण्य के भागी बने।


इनका कहना है :
हर-हर महादेव ॐ सत्य शिव महायज्ञ एवं शिव मानस ज्ञान गंगा का आयोजन हर जगह नही होता है। भगवान भोलेनाथ की प्रेरणा व ग्राम बडोरा बासियों के सौभाग्य से महायज्ञ का आयोजन ग्राम बड़ौरा में होने जा रहा है जिसमे दूर-दूर से भक्त आएंगे तथा पूण्य के भागी बनेगे।
श्री कर्दम्ब ऋषि ॐ सत्य शिवधाम काशीक्षेत्र उ0प्र0

इनका कहना है :
बड़ी खुशी की बात है हमारे गाँव मे पहली बार शिव महायज्ञ का आयोजन होने जा रहा है, आसपास के क्षेत्र में केवल हमारे गांव में ही एक ऐसा मंदिर है जिसमे भगवान शंकर के दो  शिवलिग एक साथ विराजमान है, तथा श्री गौड़ बाबा आने बाले भक्तो की पीड़ा हरते है। चूंकि इतने शीघ्र आयोजन के सम्बंध में गाँव मे तरह तरह की चर्चाएं है, परंतु धर्म के कार्य मे सहयोग करना ही हमारा धर्म है।

Post a comment

0 Comments