मतदाता राजनीतिक दलों को सीधा मैसेज दे रहे हैं , रोड नहीं, तो वोट नहीं



सतना। चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है वैसे-वैसे अपनी समस्याओं को लेकर ग्रामीण प्रत्याशियों को चेतावनी देते नजर आ रहे हैं। बिरसिंहपुर के ग्राम पंचायत देवरा के बारी अमलई गांव के मतदाता राजनीतिक दलों को सीधा मैसेज दे रहे हैं कि अगर रोड नहीं तो वोट नहीं।

गांव के ही पूर्व सरपंच ने कहा कि अगर उनके गांव की रोड नहीं बनती है तो पूरा गांव मतदान का बहिष्कार करेगा। देवरा पंचायत के इस गांव में ही भाजपा प्रत्याशी शंकर दयाल त्रिपाठी का घर बना हुआ है। गांव के लोग रोड की मांग कर रहे हैं। रोड की कुल दूरी 400 मीटर होने के बाद भी रोड नहीं बन पाई है। इसके कारण गांव तक न तो एम्बुलेंस पहुंच पाती है और न ही चार पहिया वाहन।

चारपाई में ले जाना पड़ता है मरीजों को

बिरसिंहपुर से महज 4 किमी. दूर स्थित ग्राम पंचायत देवरा के बारी अमलई के उप सरपंच जयनारायण ने अपने कार्यकाल में सड़क बनवाने का प्रयास किया था। हालांकि प्राइवेट जमीन व गांव के दबंगों ने रोड नहीं बनने दी। इसके बाद हुए विधानसभा चुनाव व लोकसभा चुनाव में आए प्रत्याश्ाियों ने रोड बनवाने की बात कही थी।

देने को तैयार हैं जमीन

गांव के लोग जमीन भी देने को तैयार हैं, बावजूद इसके वहां सड़क निर्माण का कार्य नहीं हो पा रहा है। लिहाजा इस बार लोगों ने उपचुनाव में मतदान के बहिष्कार की घोषणा कर दी है।

यहां की गई थी पहले घोषणा

बिरसिंहपुर से तकरीबन 12 किमी. दूर स्थित रिमारी और जैतवारा के बरहना गांव के लोगों ने भी गांव में जले हुए ट्रांसफार्मर को न बदलने की स्थिति में मतदान के बहिष्कार करने की बात कही थी।

इनका कहना है

इस तरह का बयान सोशल मीडिया में चल रहा है। लिखित आवेदन पत्र बहिष्कार के नहीं आए हैं। हम बात कर रहे हैं। उनकी मांग को ध्यान में रखते हुए चुनाव बाद प्रशासनिक स्तर पर पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। चूंकि सड़क जनहित का मुद्दा है लिहाजा कुछ तो बातचीत की जाएगी - जेपी धुर्वे, एडीएम सतना



http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/satna-chitrakoot-by-election-people-of-three-villages-warned-of-boycott-voting-1371801?utm_source=naidunia&utm_medium=mp&utm_campaign=p1

Post a comment

0 Comments