जानिए क्रिकेट पर कब- कब लगे दाग

इंटरनेशनल क्रिकेट में पिच पर किस तरह फिक्सिंग होती है इसका खुलासा आजतक के स्टिंग ऑपरेशन 'क्रिकेट' गेट में हुआ है. पुणे के पिच क्यूरेटर पांडुरंग सलगांवकर आजतक के ख़ुफ़िया कैमरे में पिच को लेकर सौदे बाजी करते हुए कैमरे में कैद हुए हैं. पिच फिक्सिंग करते हुए क्यूरेटर पहली बार कैमरे में कैद हुए हैं.

मालूम हो कि कुछ समय पहले इंडिया-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट के दौरान भी पुणे की क्रिकेट पिच को लेकर बवाल हुआ था. उस वक्त बीसीसीआई के पूर्व सचिव अजय शिर्के ने पुणे में पिच फिक्सिंग का आरोप लगाया था और CBI इन्वेस्टीगेशन की मांग की थी.  

कब-कब हुई फिक्सिंग...   

.ऑस्ट्रलियाई क्रिकेटर शेन वॉर्न और मार्क वॉ 1994 में श्रीलंका दौरे के दौरान सटोरियों को पिच और मौसम की जानकारी देने के मामले में फंसे थे. जिसके बाद उन्हें जुर्माना भरना पड़ा था.

.1994 में श्रीलंका दौरे के दौरान पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलीम मलिक पर मैच फिक्सिंग के आरोप लगे थे. उन्होंने अच्छा प्रदर्शन न करने के लिए सटोरियों से घूस ली थी. जांच के बाद उन पर लाइफटाइम बैन लगा था.  

. दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान हैन्सी क्रोनिए पर 2000 में मैच फिक्सिंग के आरोप लगे थे. सटोरियों से संपर्क के चलते उन पर लाइफटाइम बैन लगाया गया था.

. पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन और स्पिनर अजय शर्मा पर फिक्सिंग के आरोप के चलते बैन लगाया गया है. जांच में यह पता लगा था कि वो सटोरियों से संपर्क में थे.

. पाकिस्तान के सलमान बट्ट, मोहम्मद आमिर और मोहम्मद आसिफ़ पर 2010 में मैच फ़िक्सिंग करने का आरोप लगाया था. इस मामले में इन्हें जेल भी हुई थी.

Post a comment

0 Comments