बेनामी संपत्ति की जानकारी देने वालो को सरकार देगी १ करोड़ रूपये


  • बेनामी संपत्ति के बारे में आपको जानकारी
  • तो सरकार को दे जानकारी, गुप्त रखी जाएगी पहचान
  • अगले महीने हो सकता है औपचारिक ऐलान



बेनामी संपत्ति के बारे में पता लगाने के लिए मोदी सरकार अब मुखबिरों को अवैध संपत्ति की जानकारी देने पर एक करोड़ रुपए तक का इनाम देने की तैयारी कर रही है। जो भी बेनामी संपत्ति रखने वालों के खिलाफ खुफिया जानकारी देंगा, सरकार उसे एक करोड़ रूपए देगी। माना जा रहा है कि अगले महीने सरकार इस पहल का औपचारिक ऐलान कर सकती है। इस पॉलिसी पर काम कर रहे केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड यानी सीबीडीटी के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि बेनामी संपत्ति की जानकारी देने वाले मुखबिर को कम से कम 15 लाख और ज्यादा से ज्यादा 1 करोड़ रुपए देगी।

एक करोड़ का प्रस्ताव फिलहाल वित्त मंत्रालय के पास है। वित्त मंत्री की हरी झंडी मिलने के बाद सीबीडीटी इसका औपचारिक ऐलान कर देगी। अधिकारी ने बताया कि बेनामी संपत्ति की जानकारी सटीक होनी चाहिए और मुखबिर की पहचान पूरी तरह से गुप्त रखी जाएगी। पिछले साल सरकार जो बेनामी संपत्ति कानून लाई थी, उसमें इस तरह के प्रावधान नहीं थे। हालांकि, इससे पहले भी प्रवर्तन निदेशालय, डीआरआई इस तरह की खुफिया जानकारी देने वालों को इनाम देते रहे हैं, लेकिन इतनी बड़ी राशि पहली बार दी जा रही है।

बेनामी संपत्ति रखने वालों का पता लगाना टैक्स अधिकारियों और प्रशासन के लिए काफी मुश्किल काम होता है। एक वरिष्ठ सीबीडीटी अधिकारी ने बताया कि अगर हम मुखबिरों से मदद लेते हैं तो ऑपरेशन का यह बहुत आसान, तेज और असरदार तरीका होगा। जानकारी देने वाले को इनाम मिलेगा जिससे काम काफी आसान हो जाएगा और देशभर में बेनामी संपत्ति रखने वालों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी। 

Post a comment

0 Comments