साहब पांच हेक्टर जमीन वाले ले रहे बीपीएल का लाभ फिर हमको क्यों नहीं

साहब पांच हेक्टर जमीन वाले ले रहे बीपीएल का लाभ फिर हमको क्यों नहीं
-जनसुनवाई में ग्रामीणों ने एसडीएम को की शिकायत

राहुल शर्मा-कोलारस।  साहब हमारे गांव में ऐसे कई धनाड्य व्यक्ति हैं जिनके पास
पांच-पांच हेक्टर से अधिक जमीन है और ट्रेक्टर भी हैं उन्हें तो बीपीएल
योजना के तहत खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है परन्तु जिन गरीबों के
बीपीएल कार्ड एक वर्ष पूर्व बन गए उन्हेंं खाद्यान्न की पर्चियां तक
उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं, जांच कर अपात्रों के नाम निरस्त किए जाकर
बास्तविक लोगों को योजना का लाभ दिलाया जाए। इस आशय की शिकायत ग्राम

पंचायत चकरा के ग्रामीणों ने जनसुनवाई में एसडीएम आरके पाण्डेय को करते
हुए कर्रवाई की मांग की है। जनसुनवाई में एसडीएम के अलावा तहसीलदार नीलम
परसेडिय़ा, नायव तहसीलदार धीरज सिंह परिहार, फूड इंस्पेक्टर एपीएस परमार,
पीएचई के सक्सेना, जनपद पंचायत के इंस्पेक्टर श्याम श्रीवास्तव आदि
उपस्थित रहे।
ग्राम पंचायत चकरा निवासी नरेश गिर, गोपाल, नरेन्द्र जाटव, द्वारिका, जनक
गिर, कमर गिर, रामगिर, नरेश आदि ने एसडीएम आरके पाण्डेय को शिकायत में
बताया कि हमारे बीपीएल राशन कार्ड एक वर्ष पूर्व बन चुके हैं किन्तु
खाद्यान्न  की पर्चियों की सुविधा प्राप्त नहीं हुई है जिसके कारण गरीब
मजदूर लोगों को राशन की सामग्री उपलब्ध नहीं हो पा रही है जबकि इसके
विपरीत गांव में ही  कई लोगों ऐसे हैं जिनके पास पांच हेक्टर से अधिक
कृषि भूमि के अलावा टे्रक्टर आदि है और हर तरह से सम्पन्न हैं उन्हें
उचित मूल्य की दुकान से राशन सामग्री प्रदाय हो रही है। ग्रामीणों ने
साधन सम्पन्न लोगों के नाम बीपीएल सूची से हटाए जाने एवं बास्तविक गरीबों
को खाद्यान्न की पर्चियां उपलब्ध कराए जाने की मांग की है।
बॉक्स
तीन माह से नहीं मिला खाद्यान्न
किशनपुर निवासी घूमन सिंह, हरज्ञान, विरमाल, संतोष, मानसिंह, चिरोंजी
आदिवासी, मेहरवान आदिवासी, जालम, विदुआ आदिवासी, भूरा, खच्चू आदिवासी,
परमाल आदि ग्रामीणों ने विधायक प्रतिनिधि ओपी भार्गव के साथ जाकर एसडीएम
को तीन माह से राशन नहीं मिलने की शिकायत दर्ज कराई। आदिवासी
हितग्राहियों ने शिकायत में बताया कि राशन मांगने पर सेल्समैन द्वारा
अभद्रता की जाती है और राशन नहीं आने की बात कहकर भगा दिया जाता है।


Post a comment

0 Comments