चिकित्सको के वीआरएस लेने के बाद भी मरीजों के उपचार में नही आई कमी, धरने को लेकर कांग्रेस में हुए दो फाड़

धरने को लेकर कांग्रेस में हुए दो फाड़,आज गुटों में बटी नजर आई कांग्रेस


शिवपुरी

भर्ती मरीजों को आवश्यकता अनुसार ही किया जा रहा है रैफर- आरएमओ

पिछले पाँच दिनों से अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ चल रहे कांग्रेस के धरना प्रदर्शन के बाद आज अस्पताल प्रबंधन ने भी चुप्पी तोड़ते हुए,जिला अस्पताल में मरीजो को दिए जा रहे उपचार के आँकड़े गिनाते हुए प्रेस नोट जारी किया है,इस प्रेस नोट में उल्लेख किया गया है कि जिला चिकित्सालय शिवपुरी से 4 माह पूर्व वी.आर.एस. ले चुके मेडीकल विशेषज्ञों के बाद भी जिला चिकित्सालय में आने वाले मरीजों के उपचार एवं स्वास्थ्य सेवायें देने में किसी भी प्रकार की कमी नही आई है। चार मेडीकल विशेषज्ञ के वी.आर.एस. लेने के बाद जिला चिकित्सालय शिवपुरी से मरीजो को रैफर करने में कोई खास अन्तर नही आया है।
जिला चिकित्सालय के आरएमओ डॉ. एस.एस.गुर्जर ने बताया कि जिला चिकित्सालय में पदस्थ चिकित्सको द्वारा जिला चिकित्सालय में आ रहे मरीजों का पूर्ण क्षमता के साथ अपेक्षा अनुरूप चिकित्सा सेवायें उपलब्ध कराई जा रही है, आने वाले सभी मरीजों का उपचार किया जा रहा है एवं गंभीर मरीजों को ही चिकित्सा महाविद्यालय एवं उससे संबंद्व चिकित्सालयों में उपचार हेतु रैफर किया जा रहा है।आर.एम.ओ. द्वारा बताया गया कि चारों मेडीकल विशेषज्ञों की पदस्थापना के दौरान 4 माह की कालावधि में चिकित्सालय में बाहय रोगी के रूप में 1,17,874 मरीजों का उपचार किया गया। इसी अवधि में जिला चिकित्सालय शिवपुरी में 19,679 मरीजों को भर्ती कर उपचारित किया गया जबकि 873 (लगभग 4.56 प्रतिशत) गंभीर मरीजों को ही आगामी उपचार हेतु चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर एवं उससे संबंद्व चिकित्सालय को रैफर किया गया।
उन्होने बताया कि जिला चिकित्सालय शिवपुरी के चारों मेडीकल विशषज्ञों के वी.आर.एस. लेने के बाद 4 माह की कालावधि में बाहय रोगी के रूप मे 99,364 मरीज उपचारित किये गये। इस अवधि के दौरान जिला चिकित्सालय शिवपुरी में 16,401 मरीजों को भर्ती कर उपचारित किया गया और 834 (लगभग 5.08 प्रतिशत) गंभीर मरीजो को उचित उपचार हेतु चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर एवं उससे संबंद्व चिकित्सालय को रैफर किया गया। जिला चिकित्सालय शिवपुरी में आने वाले सभी मरीजों का उपलब्ध संसाधनों में पूर्ववत पूर्ण क्षमता के साथ उचित निःशुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।
आज अस्पताल प्रबंधन द्बारा जारी किये गए इस प्रेस नोट के सामने आने के बाद अब धरना दे रहे कांग्रेसियों की बोलती बंद होती दिखाई दे रही है।
बताया तो यह भी जा रहा है कि बीते रोज इस धरने को लेकर खुद कांग्रेस में ही दो फाड़ हो गई और इस दो फाड़ का ही नतीजा आज धरना स्थल पर भी दिखाई दिया।कल तक जो कांग्रेस धरना स्थल पर एक नजर आ रही थी आज वही कांग्रेस कई गुटो में बिखरी दिखाई दी।

Post a comment

0 Comments