नक्सलियों को इन नए तरीको से मिलेगा मुँहतोड़ जबाब :CRPF

प्रतीकात्मक चित्र 

नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 25 जवानों को शहीद कर दिया था.




गुरुवार को सीआरपीएफ के कार्यकारी डीजी सुदीप लखटकिया ने बस्तर के दौरे से लौटने के बाद अपनी रिपोर्ट गृह   मंत्रालय को सौंपी है. सुकमा जिले के बुर्कापाल गांव के पास नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 25 जवानों को शहीद कर दिया था...

ली जायेगी हेलोकॉप्टर्स की मदद :

बस्तर के आसपास तैनात चार हेलीकॉप्टर्स और तीन यूएवी की मदद ली जा सकती है. फिलहाल ये यूएवी भिलाई में रखे गए हैं और बस्तर के जंगलों के अलावा ओडिशा, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की सीमा से सटे छत्तीसगढ़ के दक्षिणी इलाकों में नक्सलियों पर नजर रखते हैं.

तरीको में होगा बदलाव :

 पिछले कुछ नक्सली हमलों से सबक लिया है और नक्सलियों की रणनीति को देखते हुए अपने तरीके में बदलाव का फैसला किया है. सरकार ना सिर्फ सुरक्षाबलों की ज्यादा बेहतर तैनाती चाहती है बल्कि नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन्स की तादाद और असर को भी बढ़ाना चाहती है. सीआरपीएफ अब ये सुनिश्चित करेगी की नक्सली अचानक हमले ना कर पाएं और इससे पहले ही उनका सामना किया जाए. डीजी लखटकिया के मुताबिक अब बस्तर में तैनात जवानों में से आधे सड़क निर्माण जैसे कामों की हिफाजत करेंगे. बाकी को नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन्स में लगाया जाएगा. इसके अलावा नक्सलियों से निपटने के लिए बनाए गए तरीकों पर भी दोबारा गौर किया जा रहा है. छत्तीसगढ़ में सीआरपीएफ की कुल 28 बटालियन तैनात हैं. इनमें से 10 बस्तर में हैं.

Post a comment

0 Comments