पीएम मोदी का वार: नोटबंदी तो शुरुआत, आगे है धारदार बेनामी संपत्ति कानून, जानिए क्या है नया कानून

नयी दिल्ली : भ्रष्टाचार व काला धन के खिलाफ वार जारी रखने का संकल्प दोहराते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नोटबंदी का एलान पूर्ण विराम नहीं है, यह महज शुरुआत है. ये जंग  जीतना है. रुकने का सवाल ही नहीं है.  यही वजह है कि अगला निशाना बेनामी संपत्ति है, जिसे हमने काफी धारदार बनाया है. आनेवाले दिनों में यह कानून अपना काम करेगा. रविवार को ‘मन की बात' कार्यक्रम में अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि मैंने आठ नवंबर (नोटबंदी की घोषणा) को ही कहा था, ये लड़ाई असामान्य है.
वजह यह है कि 70 साल से बेईमानी के काले कारोबार में बड़ी शक्तियां जुड़ी हैं? ऐसे लोगों से मैंने मुकाबला करने का संकल्प लिया है. ऐसे में वे भी सरकार को पराजित करने के लिए नये तरीके अपना रहे हैं. लेकिन, भ्रष्टाचारी समझ लें कि वे डाल-डाल हैं, तो मैं पात-पात. हर काले कारोबारों को मिटा कर रहेंगे.
बेनामी संपत्ति का जिक्र करते हुए पीएम  मोदी ने कहा कि सोची-समझी रणनीति के तहत  इसे पूर्व की सरकारों ने धारदार नहीं बनाया. यह कानून 1988 में बना था,  लेकिन कभी भी न उसके नियम बनें, न ही अधिसूचित किया गया. ऐसे ही वो ठंडे  बस्ते में रहा. हमने उसको निकाला है और बड़ा धारदार बेनामी संपत्ति का  कानून हमने बनाया है. आने वाले दिनों में वो कानून भी अपना काम करेगा. 
नोटबंदी के फैसले का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि इसके बारे में  कितनी सारी अफवाहें फैलायी गयीं.  सांप्रदायिकता के रंग से रंगने का भी कितना प्रयास किया गया. फिर भी देशवासियों के मन को कोई नहीं डुला सका है. मैं जनता के इस सामर्थ्य को भी शत-शत नमन करता हूं. उन्होंने कहा कि आज टीवी पर, समाचार-पत्रों में देखते होंगे कि  रोज नये-नये लोग, नोट पकड़े जा रहे हैं. यह सब भी आम जनता की सूचना से संभव हुआ. सरकारी व्यवस्था से जितनी जानकारी आती है, उस से अनेक गुना ज्यादा  सामान्य नागरिकों से जानकारियां आ रही हैं.  
नोटबंदी से संबंधित नियम बार-बार बदलने के सवाल मोदी ने कहा कि ऐसा जनता-जनार्दन के लिये किया जा रहा है. हर पल एक संवेदनशील सरकार होने के कारण जनता की सुख-सुविधा को जितने भी नियम बदलने पड़ते हैं, हम बदलते हैं. सरकार लगातार फीडबैक लेने का प्रयास कर रही है. इसके आधार पर हम नये रास्ते तलाशते हैं. 
पीएम मोदी ने संसद न चलने देने के लिए कुछ विपक्ष दलों को जिम्मेदार  ठहराया और कहा कि मैं चाहता था कि काला धन व राजनीतिक दलों के वित्त पोषण  के मुद्दे पर सदन में व्यापक चर्चा हो. यदि सदन चला होता तो जरूर चर्चा  होती. मोदी ने उन खबरों को भी गलत बताया, जिसमें राजनीतिक दलों को छूट देने  की बात कही गयी थी. दोहराया कि कानून सब के लिए समान है,जो भी दोषी  होगा पकड़ा जायेगा.
क्या है नया कानून
बेनामी से मतलब ऐसी संपत्ति से है जो असली खरीददार के नाम पर नहीं होता है. कर से बचने और संपत्ति का ब्योरा न देने के उद्देश्य से लोग अपने नाम से प्रॉपर्टी खरीदने से बचते हैं. जिस व्यक्ति के नाम से यह खरीदी जाती है उसे बेनामदार कहते हैं और संपत्ति बेनामी कही जाती है. बेनामी संपत्ति चल या अचल दोनों हो सकती है. अधिकतर ऐसे लोग बेनामी संपत्ति खरीदते हैं जिनकी आमदनी का स्रोत संपत्ति से ज्यादा होता है. 

Post a comment

0 Comments