सीएम को घोषणावीर कहने वालों को करार जबाब,बदरवास कॉलेज शुरू करने का आदेश लेकर आए मुख्यमंत्री* - samay khabar

ताजा खबरों के लिए FB पेज को Like करे

सीएम को घोषणावीर कहने वालों को करार जबाब,बदरवास कॉलेज शुरू करने का आदेश लेकर आए मुख्यमंत्री*

Share This

*👉सीएम को घोषणावीर कहने वालों को करार जबाब,बदरवास कॉलेज शुरू करने का आदेश लेकर आए मुख्यमंत्री* *👉-किसान सम्मेलन में किसानों को दी राहत, कहा ब्याज की राशि मूलधन से अधिक होने पर होगी माफ* *👉-भावांतर भुगतान योजना के तहत 31 करोड़ 34 लाख की राशि से 14 हजार से अधिक किसानों को किया लाभांवित* शिवपुरी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को घोषणावीर बताने वालों को बदरवास की सभा में खुद सीएम ने करारा जबाव दिया। उन्होंने कहा कि मैं बदरवास कॉलेज शुरू करने की घोषणा नहीं कर रहा हूं। बल्कि इसका आदेश लेकर मैं स्वयं आया हूं। उन्होंने कलेक्टर तरूण राठी की ओर अपनी नजरे घुमाते हुए कहा कि लो कलेक्टर तुम भी ले लो, मैं कॉलेज का आदेश लेकर आया हूं। इसकी व्यवस्था करो, जमीन देखो और कॉलेज बनवाओं। सत्र 2018-19 में इसकी क्लास लगना सुनिश्चित करवाओं। मुख्य अतिथि के रूप में किसान महासम्मेलन एवं भावांतर भुगतान योजना में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संपूर्ण क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित करने की घोषणा भी की और कहा कि समाधान योजना के तहत ऐसे किसान जिन्होंने ऋण प्राप्त किया है, लेकिन मूलधन से अधिक ब्याज की राशि हो गई है, उन किसानों के ऋण की राशि का ब्याज माफ  किया जाएगा और मूलधन की राशि की 08 से 10 किश्तों में ली जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समारोह में भावांतर भुगतान योजना के तहत लगभग 31 करोड़ 34 लाख की राशि से 14 हजार 102 किसानों को लाभांवित किया। इस दौरान शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी एवं हितग्राही मूलक योजना के तहत 32 हजार 128 हितग्राहियों को 1 अरब 34 करोड़ 27 लाख की सहायता प्रदाय की।  मुख्यमंत्री ने शैक्षणिक सत्र 2018-19 से बदरवास में कलासंकाय नवीन शासकीय महाविद्यालय प्रारंभ करने की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदाय कर आईटीआई में भवन निर्माण करने की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने कोलारस अनुभाग की सिंहधन, रायखेड़ा, धामनटुक, पाली, राजगढ़, सेसई, गिरोय, बिजरौनी, बरौदिया में लघु सिंचाई योजना का सर्वे कराकर उनका निर्माण कराने की घोषणा की। समारोह की अध्यक्षता लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री एवं जिले के प्रभारी श्री रूस्तम सिंह ने की। समारोह में सहकारिता मंत्री विश्वास सांरग, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद प्रभात झा, मछुआ कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष राजू बाथम, भाजपा जिला अध्यक्ष सुशील रघुवंशी, विधायक पोहरी प्रहलाद भारती, विधायक गोपीलाल जाटव, विधायक घनश्याम पिरौनिया, विधायक नारायण सिंह कुशवाह, पूर्व विधायकगण भैया साहब लोधी, देवेन्द्र जैन, ओमप्रकाश खटीक, वीरेन्द्र रधुवंशी, माखनलाल राठौर, रमेश खटीक, नरेन्द्र विरथरे, भाजपा किसान प्रकोष्ठ के अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक रणवीर सिंह रावत, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जितेन्द्र जैन गोटू, संभागायुक्त बी.एम.शर्मा, कलेक्टर तरूण राठी, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डे सहित बड़ी संख्या में किसान आदि उपस्थित थे।  *👉सिंधिया पर किया कटाक्ष कहा मैं राजा मुख्यमंत्री नहीं* सभा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्थानीय सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लिए बिना कहा कि मैं राजा मुख्यमंत्री नहीं बल्कि जनता का सीएम हूं और एक-एक व्यक्ति से मिलकर जाऊंगा। किसी भी व्यक्ति से बिना मिले मैं नहीं जाऊंगा। आप लोग धेर्य रखे और भाषण देने के बाद एक-एक व्यक्ति के पास जाकर मैं उससे मिलूंगा। श्री चौहान ने मंच से पूछा कि सभा में रन्नौद के लोग आए है तो जबाव मिला हां। फिर पूछा कोलारस के लोग आए है तो फिर जबाव सकारात्मक आया। इस पर मुस्कुराते हुए श्री चौहान ने कहा कि मैं रन्नौद भी आऊंगा और कोलारस भी आऊंगा। *👉मानव अधिकार मानवों के होते है दानवों के नही* बदरवास में आयोजित किए गए भावांतर किसान महासम्मेलन में बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमनें  विधेयक पारित किया है मासूमों के साथ दुष्कर्म करने वालों को फांसी की सजा दी जाएगी। यह विधेयक सही है इस बात के लिए मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद जनता के हाथ भी खडे करवाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे द्वारा जैसे ही यह विधेयक पारित किया गया तो कुछ लोगों का कहना था कि यह मानव अधिकारों का हनन हैं। लेकिन मैं आपकों बता देना चाहता हूं कि मानव अधिकार मानव के होते है राक्षसों के नहीं।  *👉विकास कार्य को लेकर इस क्षेत्र के सांसद विधायक कभी मेरे पास नहीं आए* आज मंच पर से बोलते हुए मुख्यमंत्री ने तमाम घोषणाएं की और भाजपा सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि इस क्षेत्र के सांसद एवं विधायक मेरे पास कभी भी क्षेत्र की समस्याओं को लेकर नहीं आए। जिस कारण मैं यहां की समस्याओं से अनभिज्ञ था। लेकिन अब मुझे यहां की सभी समस्याओं की जानकारी मिली है। मैं वचन देता हूं कि क्षेत्र के विकास में कोई कसर नहीं छोडूंगा। *👉जब तक बिजली बिल की राशि ठीक न हो आप जमा न करें* मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मुझे जानकारी मिली है कोलारस में लोगों के पास बढी राशि के  बिजली के बिल आ रहे है और ये बिल ब्रहमा जी ने नहीं बनाए इन्हें बिजली कर्मचारी ने बनाया है। इन बिलों की राशि को ठीक करने के लिए समाधान शिविर लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जब तक आपके बिल की राशि सही न हो तब तक आप उसे जमा भी न करें। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बोरों पर प्रतिबंध खोले जाने की घोषणा भी की। *👉सूखे की घड़ी में राज्य सरकार किसानों के साथ* मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि क्षेत्र के किसानों के लोगटर्म लोन को मिड टर्म लोन में परिवर्तित किया जाएगा। सूखे से निपटने के लिए राहत की राशि किसानों को दी जाएगी। गरीब एवं मजदूरों को रोजगार मिले इसके लिए मनेरगा के तहत विशेष पैकेज दिया जाएगा।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि उनके द्वारा भोपाल से बदरवास आते वक्त संपूर्ण क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर लिया है और सभी खेत सूखे पड़े हुए है। उन्होंने किसानों को दिलासा दिलाते हुए कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है, इस सूखे की घड़ी में राज्य सरकार सूखे से निपटने हेतु किसानों के साथ है, सूखे से निपटने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि सूखा से निपटने हेतु किसानों को जहां राहत राशि दी जाएगी। वहीं गरीबों को मनरेगा के तहत रोजगार दिया जाएगा। सूखाग्रस्त क्षेत्रों में ट्रांसफार्मर जलने पर तत्काल बदलने की कार्यवाही की जाएगी, ऐसे स्थान जहां जल स्तर ऊपर है, उन स्थानों पर ट्यूवबेल एवं हेण्डपंप खोदने की कार्यवाही की जाएगी।  *👉फसल बीमा योजना के तहत 18 हजार किसानों को 88 करोड़ की राशि हुई वितरित* शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि फसल बीमा योजना के तहत कोलारस विधानसभा क्षेत्र में 18 हजार किसानों को 88 करोड़ की राशि वितरित की गई है। किसानों से समर्थन मूल्य पर 08 रूपए प्याज की खरीदी कर 650 करोड़ रूपए की राशि किसानों के खाते में जमा करा दी गई है। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज का बाजिव एवं सही दाम मिले। इसके तहत किसानों को भावांतर भुगतान योजना के तहत किसानों को अंतर की राशि उनके खाते में जमा कराई जा रही है। योजना के तहत शिवपुरी जिले के कई किसानों के खातों अंतर की राशि एक लाख से अधिक जमा कराई गई है। समर्थन मूल्य से नीचे किसान की फसल को विक्रय नहीं होने दिया जाएगा।  *👉किसानों को घर पर ही मिलेगी बी-1 एवं खसरें की नकलें* मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अविवादित नामांतरण, बंटवारा एवं सीमांकन के प्रकरणों के निराकरण हेतु विशेष अभियान संचालित किया गया था। अविवादित नामांतरण एवं बंटवारे का प्रकरण सामने आने पर संबंधित राजस्व अधिकारी से जुर्माने की बसूली का भी प्रावधान किया गया है। अब खसरे एवं बी-1 की नकल राजस्व अमले द्वारा घर-घर जाकर किसानों को नि:शुल्क वितरित की जाएगी। उन्होंने समाज के विभिन्न वर्गों के लिए संचालित योजनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि कक्षा 12वीं की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अंक पाने वाले छात्र-छात्राएं जो आगे की पढ़ाई करना चाहते है, उन छात्र-छात्राओं की मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के तहत फीस की राशि राज्य सरकार द्वारा वहन की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऐसे भूमिहीन व्यक्तियों को भूमि का पट्टा देकर मालिकाना हक दिया जाएगा। ऐसे पट्टे धारियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास निर्माण भी कराए जाएगें। किसी को आवासहीन नहीं रहने दिया जाएगा। इस योजना के तहत जिले में 15 हजार आवासों का निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि वन विभाग को छोड़कर पुलिस में 35 प्रतिशत पदों पर महिलाओं की भर्ती की जाएगी। शिक्षकों के पद पर महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण देने का भी निर्णय सरकार ने लिया है। किसान की मृत्यु होने पर किसान को 04 लाख रूपए की सहायता राशि प्रदाय की जाएगी। उन्होंने गाय, बैल, भैंस आदि की मृत्यु होने पर शासन द्वारा किसानों को दी जाने वाले सहायता राशि का भी उल्लेख किया। मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टर को निर्देश दिए कि ग्रामीणों के बिजली बिल की समस्या के निदान हेतु बिजली पंचायत एवं शिविर का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने कहा कि कोलारस के लिए आज का दिन ऐतिहासिक होगा। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में चलाई गई भावांतर योजना भी एक एतिहासिक योजना है। कार्यक्रम के शुरू में स्वागत भाषण भाजपा के जिला अध्यक्ष श्री सुशील रघुवंशी ने किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कन्यापूजन भी किया।   *👉मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा की रोचक झलकियां--* 👉-आज कार्यक्रम में मंच पर सबसे पहले मंत्री विश्वास सारंग पहुंचे जो मंच की व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए चकरघिन नजर आए। 👉मुख्यमंंत्री के आने से लगभग एक घंटे पहले मंच पर पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने जब देखा कि मुख्यमंत्री को भी वहीं कुर्सी बैठने के लिए रखी गई है जो सभी नेताओं के लिए है। तो उनके निर्देशन में आनन-फानन में स्थानीय भाजपा नेताओं ने सीएम को बैठने के लिए सौफा सेट मंगाकर आगे की पंक्ति में रखवा दिया। सौफा रखे जाने के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता और मंंत्रियों में गुप्तगुह हुई और चंद मिनटों के बाद इस सौफे को उठाकर मंच से नीचे रख दिया गया और पहले जो कुर्सी सीएम को बैठने के लिए रखी गई ती उसी कुर्सी को पुन: रख दिया गया।  👉मुख्यमंत्री के मंच पर आने से पहले स्थानीय भाजपा नेताओं ने सभा को संबोधित किया। माइक का संचालन पूर्व विधायक नरेन्द्र बिरथरे द्वारा किया जा रहा था जो कि हर वक्ता को कम समय में अपनी बात रखने के लिए कह रहे थे। जब पूर्व विधायक ओमप्रकाश खटीक, मछुआ कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष  राजू बाथम अपना उदबोधन देने आए तो इन्होंने समय सीमा का ध्यान नहीं रखा जिसके चलते श्री बिरथरे पीछे की तरफ से इन दोनों नेताओं का कुर्ता खिचते हुए नजर आए।  ओमप्रकाश खटीक ने तो कुर्ता  खींचे जाने पर मंच से ही यह बोल दिया कि मुझे रोक रहे है मैं अब अपना भाषण बंद करता हूं।  👉अपने निर्धारित समय से लगभग ढाई घंटे लेट सभा स्थल पर पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। भोपाल से मुख्यमंत्री के उडऩ खटोले में उनके साथ पूर्व मंत्री नारायण कुशवाह आए थे।  👉सीएम के मंच पर पहुंचने के  बाद जैसे ही मुख्यमंत्री के माल्यापर्ण के लिए भाजपा नेताओं के नाम बोले गए तो सभी नेताओं में मुख्यमंत्री के समक्ष चेहरा चमकाई की होड़ लग गई और स्थिति यह बनी की लगभग 20 मिनिट तक मंच व्यवस्था होचपोच दिखाई दी। इस होचपोच व्यवस्था को सीएम के इशारे पर प्रभारी मंत्री रूस्तम सिंह ने संभाला जिन्होंने लगभग धकयाते हुए अंदाज में सामने खड़े सभी भाजपा नेताओं को एक तरफ किया।  👉मुख्यमंत्री के मंच पर पहुंचने के बाद स्वागत भाषण देने के लिए जिलाध्यक्ष सुशील रघुवंशी का नाम बोला गया। लेकिन जब वे नहीं पहुंचे तो तत्काल प्रभारी मंत्री रूस्तम सिंह का नाम स्वागत भाषण देने के लिए लिया गया। बाद में हुआ यह कि जिलाध्यक्ष और प्रभारी मंत्री दोनों एक साथ स्वागत भाषण देने के लिए जाते हुए नजर आए। इसी बीच प्रभारी मंत्री ने अपने कदम रोक लिए और स्वागत भाषण जिलाध्यक्ष ने दिया।  👉सीएम शिवराज के मंच पर पहुंचने के बाद प्रथम वक्ता के रूप में प्रभारी मंत्री रूस्तम सिंह अपना उदबोधन दे रहे थे । इसी बीच कार्यक्रम में पहुंची  जनता ने शोर मचाना शुरू कर दिया। इसी बीच मुख्यमंत्री ने अपनी कुर्सी छोडी और सीधे माईक पकड़ लिया। जिन्होंने पाण्डाल में मौजूद जनता से आग्रह किया कि वह शोर न मचाए । सीएम के कहने के बाद भी जब जनता शांत नहीं हुई तो शिवराज सिंह चौहान ने भीड़ को आश्वस्त किया  कि वह अपने भाषण के बाद कार्यक्रम में आए हर व्यक्ति से मिलकर जाएंगे। इतना ही नहीं उन्होंने जनता की इच्छा भापते हुए यह भी कहा कि मेैं जिस हेलीकॉपटर से आया हूं उस हेलीकॉपटर को वापिस भेज देता हूूं। अब मैं आज यहीं रूकूंगा पूरी जनता से मिलुंगा और ग्रामीण अंचल का भी भ्रमण कर आपकी समस्याओं को सुनूंगा। इतना बोलते हुए मुख्यमंत्री ने रूस्तम सिंह को माइक से ही कहा कि रूस्तम जी खत्म करो मैं बोलूंगा फिर जनता से मिलूंगा। मुख्यमंत्री की यह बात सुनते ही रूस्तम सिंह बोले कि हमारा तो खत्म ही हो गया।  👉मंच पर अपना भाषण खत्म करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कार्यक्रम में मौजूद जनता से मिलने के लिए नीचे उतर गए । इस दौरान पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय के साथ-साथ अन्य पुलिसकर्मी व कलेक्टर तरूण राठी भी सीएम सुरक्षा व्यवस्था में चकरघिन नजर आए। मुख्यमंत्री लगभग 30 मिनिट तक आमजन से रूवरू हुए इसके बाद जब वह भीड़ से बाहर निकल कर कार में सवार हुए  तब कहीं जाकर पुलिस और प्रशासन की टीम ने राहत की सांस ली। 👉मुख्यमंत्री द्वारा आज दिए गए अपने भाषण में उन्होंने कई घोषणाएं करते हुए प्रदेश और केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का बखान किया। सीएम द्वारा दिए गए भाषण में उनका कुछ भाषण उसी तरह का था जिस तरह का वह पूर्व में भी कई बार देते हुए आए हैं। 

No comments:

Post a Comment

Pages