परमात्मा से प्रेम हो जाना ही सच्चा प्रेम :स्वामी आत्मानंद कम्युनिटी हॉल में आयोजित हुआ कार्यक्रम,

परमात्मा से प्रेम हो जाना ही सच्चा प्रेम :स्वामी आत्मानंद
कम्युनिटी हॉल में आयोजित हुआ कार्यक्रम, भजनों के माध्यम से करवाया भागवत दर्शन 


शिवपुरी। परमात्मा से प्रेम हो जाना ही सच्चा प्रेम है। प्रेम में इतनी शक्ति है की सर्वव्यापक भगवान को प्रकट कर देता है। स्वामी ने कहा कि प्रेम निष्काम होता है। जिसमें कामना होती है उसे प्रेम नहीं मोह कहा जाता है। भगवान के साथ प्रेम होता है तथा संसार में मोह होता है। सच्चा भक्त भगवान से कुछ नहीं मांगता। यह प्रवचन सिद्ध पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी आत्मानंद ने शहर के गांधी पार्क स्थित कम्युनिटी हॉल में तथागत फाउंडेशन शिवपुरी के द्वारा आयोजित एक भव्य धार्मिक कार्यक्रम के दौरान कही।

 भागवत एवं गीता के उद्भट और देश के प्र यात विद्वांन 1008 स्वामी आत्मानंद जी महाराज महामंडलेश्वर प्रयागधाम पुलिस अधीक्षक शिवपुरी सुनील कुमार पांडे के विशेष आग्रह पर तथागत फाउंडेशन एवं जिला गायत्री परिवार शिवपुरी के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित भागवत दर्शन के इस कार्यक्रम में पधारे थे। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला कलेक्टर शिवपुरी तरुण राठी थे और अध्यक्षता जिला एवं सत्र न्यायाधीश शिवपुरी माननीय आरबी कुमार ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में पुलिस अधीक्षक शिवपुरी उपस्थित थे।

कार्यक्रम के प्रारंभ में स्वामी आत्मानंद का शंखध्वनि और पुष्पों के द्वारा आत्मीक स्वागत किया गया तथा जिला एवं सत्र न्यायाधीश कुमार साहब, कलेक्टर तरुण राठी, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पांडे सहित शहर के गणमान्य नागरिकों एवं समाजसेवी संस्थाओं के द्वारा माल्यार्पण के द्वारा स्वामी जी का भावभीना स्वागत किया गया।

इस अवसर पर तथागत फाउंडेशन के अध्यक्ष आलोक एम इंदौरिया तथा गायत्री परिवार के डॉ. पीके खरे द्वारा शॉल-श्रीफल से पूज्य स्वामी जी का स मान किया गया। मानव वेलफेयर सोसायटी शिवपुरी के द्वारा भी शॉल-श्रीफल और स्मृति चिन्ह देकर स्वामी जी का अभिनंदन किया गया। श्रीमद् भागवत के ऊपर प्रेरणादायक और शानदार उद्बोधन देने वाले स्वामी आत्मानंद जी देश के प्र यात भागवत मनीषी में शुमार होते हैं।
अपने प्रेरक और सारगर्भित उद्बोधन में स्वामी जी ने कहा कि मनुष्य के दुखों का कारण उसकी कामना है। कामना जितनी बढ़ती है, दु:ख भी उतना बढ़ता है। कामना ही दु:ख की जननी है।

कामना का त्याग करने से मानव सुख को प्राप्त करता है। सच्चा भक्त कभी कामना के आगे नहीं आने देता। सुखी होने के लिए बहुत से पैसों की जरूरत नहीं, बल्कि संतोष की जरूरत होती है। जिसके जीवन में संतोष रूपी धन गया, वह सुखी हो जाता है। स्वामी जी महाराज के साथ आई भजन मंडल के द्वारा मधुर भजनों की प्रस्तुति देकर उपस्थित सुधी श्रोताओं को आनंदित कर दिया।
कार्यक्रम के प्रारंभ में पुलिस अधीक्षक शिवपुरी के द्वारा स्वामी जी महाराज के बारे में सूक्ष्म में परिचय देते हुए कहा गया कि स्वामी जी महाराज श्रीमद् भागवत गीता के देश के लव्ध प्रतिष्ठित विद्वांन हैं और उनका शिवपुरी आगमन निश्चित रूप से हमारे कल्याण के लिए हुआ है।

कार्यक्रम का सफल संचालन राजेश गुप्ता राम ने किया। इस अवसर पर जिला न्यायालय के स मानीय न्यायाधीशगण, एडीशनल एसपी कमलसिंह मौर्य, डॉ. पीके खरे, डॉ. डीके बंसल, डॉ. भगवत बंसल, डॉ. एमडी गुप्ता, आरआई अरविंदसिंह सिकरवार, तथागत एवं गायत्री परिवार के सदस्य, टीम-31, लायंस क्लब शिवपुरी साउथ, लायंस क्लब सेंट्रल, रोटरी क्लब, प्रोमीनेंट क्लब, पंजाबी परिषद, मानव वेलफेयर सोसायटी, प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन के सदस्य सहित शहर के वरिष्ठ चिकित्सक, एडवोकेट एवं शहर के प्रबुद्ध नागरिक मौजूद थे। कार्यक्रम के समापन प्रसाद वितरण के साथ संपन्न हुआ।

Post a comment

0 Comments