बैंक में गिरवी रखे गहने वापस लेने आई महिला से बैंक वालो ने कहा-तुम्हारे गहने नीलाम कर दिए

 

                                हंगामे के दौरान बैंक परिसर में फर्श पर लेटी महिला।

 शिवपुरी -एक महिला जो अपने ही   गिरवी  रखे गहनों को वापस लेने आई वह काफी समय से इन्तजार कर रही थी अपने बेटे की शादी में अपने गिरवी रखे गहनों को वापस उठाकर लाऊंगी ,उसे क्या पता था उसके ही गहनों की जब तक नीलामी हो चुकी होगी |

शहर की आई सीआईसी बैंक में शुक्रवार दोपहर उस समय हंगामा हो गया जब भौती की एक महिला वर्ष 2015 में बैंक में रखे गए अपने गहने वापस लेने आई। महिला ने बैंक प्रबंधन पर आरोप लगाया कि बैंक के अधिकारियों ने उसके जेवर हड़प लिए हैं। उसे वापस नहीं दे रहे हैं। इस मामले में बैंक प्रबंधन जहां कुछ भी कहने से इंकार कर रही है। वहीं पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। 



बेटी की शादी थी, इसलिए वापस लेने आई थी गहने 
महिला ने जानकारी देते हुए बताया कि 6 मई को उसके बेटे की शादी है और अब उसे इन जेवरों की जरुरत है इसलिए वह बैंक से उन्हें छुड़ाने आई । लेकिन बैंक ने यह कहते हुए गहने देने से मना कर दिया कि हम तो आपके जेवरों को नीलाम कर चुके हैं। मामले में महिला ने कहा कि उसे कोई सूचना नहीं ही नही दी गई है बैंक वालों ने उसके जेवर हड़प लिए हैं। अब पुलिस को इस मामले में गारंटर बनाए गए उपेंद्र भार्गव पर भी शक है। क्योंकि उपेंद्र पर पहले से ही जिले के दो थानों में धोखाधडी और 420 के केस दर्ज हैं। बैंक मैनेजर दीपक शर्मा ने इस मामले में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है। अब देहात थाना पुलिस इस मामले में जांच कर कर रही है। 

1.65 लाख रुपए लिया था लोन 
भौंती की रहने वाली एक महिला विजय लक्ष्मी ने आईसीआईसीआई बैंक से वर्ष 2015 में 1 लाख 65 हजार रुपए का गोल्ड लोन लिया था। इस मामले में बैंक ने एक उपेंद्र भार्गव नाम के युवक को भी गारंटर बनाया था। लेकिन जब वो बैंक आया तो उसकी चुप्पी भी समझ से परे थी। 

रिश्तेदार को बनाया था गारंटर, पीड़ित महिला को शक-उसने ही की धोखाधड़ी 

Post a comment

0 Comments