कलेक्टर की गाड़ी का भुगतान रोकने वाली आईएएस का तबादला


शिवपुरी-                                            

 कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव और जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नेहा मारव्या (2011) के बीच भाड़े की गाड़ी के भुगतान को लेकर चल रहा विवाद राज्य सरकार के तक पहुंच गया। जिसके बाद मुख्य सचिव ने सख्त मिजाज महिला अधिकारी नेहा मारव्या को शिवपुरी से हटाकर उपसचिव मंत्रालय पदस्थ किया है। मारव्या के स्थान पर शिवपुरी की ही अपर कलेक्टर नीतू माथुर को जिला पंचायत सीईओ पदस्थ किया गया है।



 आईएएस नेता मारव्या शिवपुरी में पदस्थापना के दौरान अपनी कार्यप्रणाली को लेकर काफी बदनाम हो चुकी थीं।

कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव के अवकाश पर जाने के बाद प्रभारी कलेक्टर रहते उन्होंने कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे के कार्यक्रमों पर रोक लगाई थी। साथ ही 26 जनवरी पर होने वाले मुख्य समारोह में पत्रकारों की एंट्री सीमित कर दी थी। महिला आईएएस की कार्यप्रणाली के विरोध में पत्रकारों ने कलेक्ट्रेट के सामने अनशन दिया था। जिस पर ग्वालियर संभागायुक्त एसएन रूपला ने पत्रकारों से खेद जताया था। नेता मारव्या की इस कार्यप्रणाली पर सरकार ने ध्यान नहीं दिया, लेकिन नेहा मारव्या एक बार फिर तब चर्चा में आईं जब उन्होंने शिवपुरी कलेक्टर के लिए किराए पर लगाई गई लग्जरी गाड़ी का भुगतान करने से इंकार कर दिया। मारव्या ने नोटशीट पर लिखा कि वे इसका भुगतान नहीं करेंगी। कलेक्टर को 6 लाख 50 हजार से ज्यादा की कीमत की गाड़ी से चलने का अधिकार नहीं है। महिला अधिकारी की हठ के आगे कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव ने नोटशीट के साथ स्वयं के बैंक खाते का चेक लगाकर गाड़ी का भुगतान करने के निर्देश दिए। लेकिन नेता माहव्या तब उलझ गईं, जब कलेक्टर ने नोटशीट पर लिखा कि जब वे अवकाश पर थे, तब डेढ़ महीने तक उन्होंने प्रभारी कलेक्टर रहते गाड़ी का उपयोग स्वयं किया था। पिछले गाड़ी के भुगतान को लेकर अफसरों के बीच चल रहा विवाद राज्य सरकार के संज्ञान में आया। इसके बाद कार्यप्रणाली को लेकर सरकार की किरकिरी करा रही महिला आईएएस अधिकारी को चलता कर दिया गया।

इन अफसरों के भी तबादले

लोक सेवा आयोग की सह-सचिव रेणु पंथ को आयुक्त नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण इंदौर एवं ऋजु बाफना (2014)एसडीएम नागदा उज्जैन को राजपुर बड़वानी पदस्थ किया है। वहीं अपर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस को संसदीय कार्य विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

Post a comment

0 Comments