कुपोषण के खिलाफ मुहिम ठंडे बस्ते में ,गंभीर नहीं जिला प्रशासन

 खाली पड़ी है 40 बैड की एनआरसी 


मुख्य सचिव के आदेशों के बाद भी कुपोषण को लेकर गंभीर नहीं जिला प्रशासन

रंजीत गुप्ता- शिवपुरी - जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या बढ़ने के बाद भी इन बच्चों के इलाज के लिए संचालित पोषण पुर्नवास केंद्र (एनआरसी) की हालत खराब है। जिला मुख्यालय पर कल्याणी धर्मशाला में 40 बैड की एनआरसी है लेकिन यहां पर मात्र एक बच्चा ही इलाज के लिए भर्ती है। जिला मुख्यालय की पूरी एनआरसी खाली पड़ी है। महिला एवं बाल विकास विभाग और स्वास्थ्य केंद्र के अमले द्वारा इस केंद्र पर कुपोषित को इलाज के लिए नहीं लाया जा रहा है। इस एनआरसी पर पदस्थ स्टाफ केवल कागजों में ही इसका संचालन अच्छा बता रहा है जबकि हकीकत यह है कि यह केंद्र अव्यवस्थाओं के घेरे में है। गौरतलब है कि जिले में कुपोषित बच्चों के इलाज के लिए 10 पोषण पुर्नवास केंद्र संचालित किए जा रहे हैं। इन केंद्रों के संचालन पर लाखों रुपए का बजट हर महीने खर्च करना बताया जा रहा है। 


कलेक्टर से लेकर दूसरे अधिकारी नहीं कर रहे मॉनिटरिंग 

कुपोषण को थामने के लिए गुरुवार को प्रदेश के मुख्य सचिव बीपी सिंह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए थे कि आंगनबाड़ी केंद्रों और एनआरसी का निरीक्षण करें और इन केंद्रों का संचालन बेहतर हो रहा है कि नहीं यह देखें, लेकिन शिवपुरी में हालत खराब है। जिले में कलेक्टर और दूसरे अधिकारी केवल अपने चेंबरों में ही बैठकें कर व्यवस्था संचालन कर रहे हैं लेकिन मैदानी स्तर पर हालत खराब है। कल्याणी धर्मशाला में चलाए जाने वाले एनआरसी केंद्र कई दिनों से खाली है यहां पर कुपोषित बच्चे क्यों भर्ती नहीं कराए जा रहे इस पर कोई भी वरिष्ठ अधिकारी मॉनिटरिंग नहीं कर रहा है। 

डीपीओ छ़ट्टी पर, प्रभारी के भरोसे विभाग 

जिले में पदस्थ महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला परियोजना अधिकारी ममता चतुर्वेदी पिछले दो महीने से अवकाश पर हैं। विभाग की मुखिया के अवकाश पर होने से प्रभारी के तौर पर महिला सशक्तिकरण अधिकारी ओपी पांडे पर चार्ज है। प्रभारी व्यवस्था के कारण महिला एवं बाल विकास विभाग से तमाम योजनाएं इस समय भगवान भरोसे ही चल रही हैं। खासकर कुपोषण के खिलाफ मुहिम तो ठंडे बस्ते में है। 

क्या कहते हैं प्रभारी अधिकारी

मैं यह पता करता हूं कि एनआरसी में बच्चे कोई कम हैं। कुछ दिनों पहले मुझे बताया गया था कि इस समय चैत्र फसलों की कटाई चल रही है इसलिए बच्चे कम आ रहे हैं फिर भी मैं दिखवाता हूं। 

ओपी पांडे

प्रभारी डीपीओ, महिला एवं बाल विकास विभाग शिवपुरी

Post a comment

0 Comments